कुछ नयी कविताएं –

नंद भारद्वाज की कविताएं

 अपना घर

ईंट-गारे की पक्की चहार-दीवारी

और लौह-द्वार से बन्द

इस कोठी के पिछवाड़े

रहते हुए किराये के कोने में

अक्सर याद आ जाया करता है

रेगिस्तान के गुमनाम हलके में

बरसों पीछे छूट गया वह अपना घर –

घर के खुले अहाते में

बारिश से भीगी रेत को देते हुए

अपना मनचाहा आकार

हम अक्सर बनाया करते थे बचपन में

उस घर के भीतर निरापद अपना घर –

बीच आंगन में खुलते गोल आसरों के द्वार

आयताकार ओरे,  तिकोनी ढलवां साळ

अनाज की कोठी, बुखारी, गायों की गोर

बछड़ों को शीत-ताप और बारिश से

बचाये रखने की पुख्ता ठौर !

जाने क्यों इस घर में अपना घर बनाते

हम अक्सर भूल जाया करते थे

घर को घेर कर रखती वह चहार-दीवारी !

***

मां की याद

बीत गये बरसों के उलझे कोलाहल में

अक्सर उसके बुलावों की याद आती है

याद आता है उसका भीगा हुआ आंचल

जो बादलों की तरह छाया रहता था कड़ी धूप में

रेतीले मार्गों और अधूरी उड़ानों के बीच

अब याद ही तो बची रह गई है उस छांव की

बचपन के बेतरतीब दिनों में

अक्‍सर पीछा करती थी उसकी आवाज

और आंसुओं में भीगा उसका उदास चेहरा –

अपने को बात-बात में कोसते रहने की

उसकी बरसों पुरानी बान –

वह बचाए रखती थी हमें

उन बुरे दिनों की अदीठ मार से

कि जमाने की रफ्तार में छूट न जाए साथ

उसकी धुंधली पड़ती दीठ से बाहर

दहलीज के पार

हम नहीं रह पाए उसकी आंख में

गुजारे की तलाश में भटकते रहे यहां से वहां

और बरसों बाद जब कभी पा जाते उसका आंचल

सराबोर रहते थे उसकी छांव में

वह अनाम वत्सल छवि

अक्सर दीखती थी उदास

बाद के बरसों में,

कहने को जैसे कुछ नहीं था उसके पास

न कोई शिकवा-शिकायत

न उम्मीद ही बकाया

फकत् देखती भर रहती थी    अपलक

हमारे बेचैन चेहरों पर आते उतरते रंग –

हम कहां तक उलझाते

उसे अपनी दुश्‍वारियों के संग?

***

 

 

Advertisements

0 Responses to “कुछ नयी कविताएं –”



  1. Leave a Comment

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s




टैग बादल

पंचांग

September 2016
M T W T F S S
« Apr    
 1234
567891011
12131415161718
19202122232425
2627282930  

%d bloggers like this: